Header Ads

  • नवीनतम

    Recent Posts:

    महाभारत खंड - 1 युद्ध के बीज – 16

    arrow

    रथ अपनी गति से चला जा रहा था । किन्तु , शांतनु का मन मानों अभी भी दासराज की कुटिया के बाहर ही खड़ा था । कमल के पुष्पों की गंध मानों उनकी नासिका में बस गयी थी । उस सुगंध के पाश में बंधा उनका मन वहाँ से डिगने को तैयार न था । किन्तु , उनका शरीर इस रथ के साथ आगे बढ़ा जा रहा था । तेज वायु के झोंके से उनकी तंद्रा भंग हुई ।
    यह कैसी दुर्बलता है ! वह क्यों चिंतन कर रहे हैं अभी भी सत्यवती के बारे में ?
    उनका मस्तिष्क उन्हे धिक्कार उठा । 
    क्या उनका स्वार्थ उनके मन पर अपना आधिपत्य जमा चुका है ? क्या अपने प्रेम के लिए वे अपने पुत्र के अधिकारों की बलि चढ़ाएँगे ?
    न जाने कितने प्रश्न राजा शांतनु के मन में आ–जा रहे थे । उनके हृदय की वेदना बढ़ती जा रही थी । न जाने कहाँ से एक विचार उनके मन में उठा –
    क्या हो अगर देवव्रत स्वयं ही अपने अधिकारों का त्याग कर दे !
    फिर से सत्यवती का मुख उनके नेत्रों के समक्ष घूम गया ।
    और वह मादक सुगंध ! 
    नहीं ! वह सत्यवती के बिना नहीं रह सकते ।
    किन्तु , किस मुख से ऐसा स्वार्थपूर्ण प्रस्ताव वे देवव्रत के समक्ष रखें ?
    मानों अचानक से बिजली से कौंधी और उनका मस्तिष्क पुनः सजग हुआ ।
    नहीं ! अत्यंत निम्न कर्म है यह ! वे कदापि भरत – कुल के यश को कलंकित नहीं कर सकते । भविष्य उन्हें ऐसी भूल के लिए कभी क्षमा नहीं करेगा ।
    मन एवं मस्तिष्क के ऐसे संघर्ष से शांतनु का शरीर बलहीन प्रतीत होने लगा । उन्हे लगा मानों यह भूमंडल घूम रहा है । इससे पूर्व कि वह रथ से गिर पड़ते , वह रथ के मध्य में स्थित स्तम्भ का सहारा लेकर नीचे आसन पर बैठ गए ।
    रथ कुछ समय के उपरांत राजमहल के प्रांगण में पहुँचा । वहाँ का वातावरण अत्यंत अव्यवस्थित दिखा । मंत्रिगण अत्यंत चिंतातुर से वहाँ खड़े दिखे । सभी मानों महाराज की ही प्रतीक्षा कर रहे हों ।
    राजा शांतनु के रथ से उतरते ही प्रधान अमात्य उनके समक्ष पहुँचे । स्वयं के दुख से पीड़ित शांतनु अमात्य के मस्तक पर चिंता की लकीरों को देखकर और भी विचलित हो उठे ।
    प्रधान अमात्य ने कहा –
    “ महाराज ! संकट का समय है । गन्धर्वों ने आक्रमण कर दिया है । युवराज देवव्रत स्वयं सेना लेकर उ-पू सीमा की ओर गए हैं । “
    कुछ क्षण को स्तब्ध रह गए शांतनु । फिर स्वयं को संभालते हुए कहा –
    “ गंधर्व अत्यंत शक्तिशाली हैं एवं युद्ध में छल करना उनकी रणनीति का मुख्य हिस्सा होता है । ऐसे शत्रु से युद्ध करने के लिए आपने युवराज को क्यों भेज दिया ?
    “ महाराज आपकी अनुपस्थिति में हमारे पास दूसरा कोई उपाय न था । शत्रु ने बिना किसी सूचना के आक्रमण किया है । “
    शांतनु के माथे पर बल पड़ गए । उनका पुत्र – प्रेम सजग हो उठा ।
    आह ! बालक ही तो है देवव्रत ! अल्पवय देवव्रत का इतने शक्तिशाली शत्रु से युद्ध ! भीषण परिणाम भी हो सकते हैं ।
    शांतनु शीघ्र ही रथ पर पुनः सवार हो गए एवं प्रधान अमात्य से कहा –
    “ अमात्य ! राज्य की आंतरिक सुरक्षा का प्रभार मैं आपको सौंपता हूँ । अगर हमारी अनुपस्थिति में कोई संकट आता है तो सेना की आपातकालीन टुकड़ी का प्रयोग कर सकते हैं । “
    इतना कहकर शांतनु ने सारथी को उ – पू सीमा की ओर चलने का संकेत किया ।
    सारथी ने बिना विलंब किए रथ को उस ओर मोड दिया । कुछ समय के उपरांत उनका रथ सीमा के पास पहुँचा । किन्तु , वहाँ  का दृश्य परिवर्तित हो चुका था । गन्धर्वों की सेना भाग खड़ी हुई थी । वहाँ मात्र हस्तिनापुर की सेना विद्यमान थी ।  सैनिकों के शव एवं रक्त से धरती पटी हुई थी । दोनों ओर से कई वीर योद्धा वीरगति को प्राप्त हुए थे ।
    शव चाहे शत्रुपक्ष का हो या अपने पक्ष का – युद्धभूमि के शव हमेशा मानव सभ्यता को चुनौती देते प्रतीत होते हैं । सभ्यता के विकास पर व्यंग्य करते हुए , अट्टाहास करते हुए प्रतीत होते हैं ।
    मानों कह रहे हों –  “ कर लिया विकास ! उन्नत से उन्नतर एवं उन्नत्तम की सीमा को स्पर्श करते – करते फिर से उसी आदिम रक्त की प्यास जाग उठी तुममें । किसे छल रहे हो तुम ? विकास तो बहुत किया किन्तु तुम्हारे हृदय का विकास अभी शेष है । थोड़ा विस्तार उसे भी दे देते तो शायद उष्ण रक्त की धारा से मानवता को स्नान न करना पड़ता । “
    सैनिकों के शवों के मध्य से गुजरते रथ में बैठे शांतनु का हृदय और भी व्यथित हो उठा ।
    क्या आवश्यकता है युद्ध की ? क्या भूमि का छोटा सा अंश इन सैकड़ों सैनिकों के प्राण से अधिक महत्वपूर्ण है ?
    गंधर्वराज के प्रति शांतनु के मन में घृणा और तीव्र हो उठी । उनके हस्त धनुष पर और कस गए । किन्तु , शवों के अतिरिक्त न तो कहीं चित्रांगद दिखे न ही उनकी सेना ।

    सारथी ने रथ को देवव्रत के रथ के निकट ले जाकर रोक दिया । देवव्रत को सकुशल देखकर शांतनु के संतप्त हृदय को शांति मिली ।   
    क्रमशः ....
    लेखक – राजू रंजन    

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad